Pranayama with Meditation to boost willpower and self confidence

Image for post
Image for post

आजकल इस भागदौड़ भरी ज़िन्दगी में ज्यादातर लोग इतने ज्यादा व्यस्त रहते है कि वह मालिक का नाम लेना व मालिक का शुक्राना करना ही भूल जाते हैं। आज के समय में सबसे ज्यादा कमी सुकून व आत्मिक शांति की हैं। इंसान रोज की इस आपाधापी के शोर में चिंताओं से थोड़ी देर के लिए ही सही लेकिन अपने दिमाग को शांत रखना चाहता है। ऐसा करने से इंसान को अंदर से ही एक अलग खुशी व सुख का अनुभव होता हैं।

यदि आप बहुत तनाव य टेंशन में है, तो इस से निजात पाने का एकमात्र हल meditation हैं।

क्योंकि राम के नाम का निरंतर अभ्यास करने से दिमाग को शांत करने में काफी मदद मिलती है। अगर इंसान का दिमाग शांत है, तो वह अपनी सभी परेशानियां का हल आसानी से कर सकता है।

आज के समय मे इंसान को Meditation की अत्यधिक जरूरत है। Meditation करने से इंसान को सही-गलत का पता चलता है कि उसके लिए क्या सही है और क्या गलत है। Meditation से ही आप अपनी चिंताएं दूर कर के अपने लक्ष्य को प्राप्त कर सकते हैं।

आइये जानते है Meditation से जुड़ी कुछ बातें-

What Is Meditation-

कुछ लोग मेडिटेशन को भी योग की तरह ही समझते हैं लेकिन यह बिल्कुल गलत हैं! Meditation और योग दोनों में बहुत अंतर है। योग हमारे शरीर के लिए कसरत होती है, वहीं Meditation हमारे दिमाग के लिए कसरत।

Meditation का अर्थ-

मैडिटेशन का अर्थ है- एकाग्र भाव से ध्यान लगाना। इसका एकमात्र उद्देश्य है मनुष्य को आत्मिक शांति प्रदान करना। Meditation से हमारे शरीर में एक नई ऊर्जा का निर्माण होता हैं। एक ऐसी ऊर्जा का निर्माण जिससे जीवन मे सकरात्मकता और खुशहाली आती हैं।

इसी सकरात्मकता से मनुष्य अपने लक्ष्य को आसानी से पूरा कर सकता हैं। पूज्य गुरु संत डॉक्टर गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सा फरमाते हैं कि अगर इंसान दिल से (श्रद्धा से) ईश्वर की भक्ति इबादत करता है, तो यकीनन हमारे अंदर भगवान की बनाई हुई सृष्टि का भी भला करने का विचार आएगा। जरूरतमन्दों की मदद करना, अच्छे कर्म करना और लोगों की परेशानियां दूर करके आप एक अच्छे इंसान बन सकते हैं। पूज्य गुरु जी फरमाते हैं कि आप सबके सुख दुःख के साथी बनो। अगर कोई दुखी है तो उसके दुख को दूर करने की कोशिश करो।

आज के समय में डेरा सच्चा सौदा के करोड़ो अनुयायी पूज्य गुरु संत डॉक्टर गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां की पावन प्रेरणा से निःस्वार्थ भाव से इस सृष्टि की सेवा करते हैं। हमेशा भगवान से सबका भला मांगते हैं, यही जिंदगी को जीने सही ढंग हैं।

मैडिटेशन की शुरुआत आज से नहीं, बल्कि लोग आदिकाल से ही इसका इस्तेमाल चिंतामुक्त और खुशहाल जीवन जीने के लिए करते आए हैं। जबकि आदिकाल में तो ऋषि-मुनी बहुत लंबे समय तक प्रभु की भक्ति इबादत करते थे फिर बहुत समय के बाद उन्हें भगवान की प्राप्ति होती थी। लेकिन आज कलयुग के समय डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख संत डॉक्टर गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां ने करोड़ो लोगों को राम-नाम का एक ऐसा आसान तरीका बताया जिसका निरंतर अभ्यास करने से लोग आसानी से ईश्वर की प्राप्ति कर सकते हैं।

Right Way To Do Meditation-

Image for post
Image for post

मेडिटेशन करने का फायदा तभी होता है, जब इसे सही तरीके से किया जाता है। अगर आप इसे सही तरीके से करें तो यह आपको शारीरिक और मानसिक दोनों तौर पर शांति और बेहतर स्वास्थ्य प्रदान करेगा। हम आपको मेडिटेशन करने की सबसे सरल विधि बता रहे हैं। आइए अब हम जानते हैं, ध्यान लगाने की सबसे सरल विधि के बारे में -

1.ध्यान करने के लिए आप एकांत जगह पर बैठे।

2. आप सुखासन में, आसान आसन में या कुर्सी पर बैठ सकते हैं।

3. अपने आप को शांत करें।

4. अब अपनी आंखों को बंद करें और अपनी आंखों के बीच के अपनी नाक के ऊपर ध्यान केंद्रित करें। जिसे ज्ञान चक्षु या दसवां द्वार भी कहते हैं।

5. अब गुरु मंत्र को लगातार दोहराए।

6. आप 10 मिनट से शुरुआत कर सकते हैं। 10 मिनट सुबह और 10 मिनट शाम।

7. इस समय को धीरे धीरे बढ़ाते जाएं। हमे meditation के लिए समय निश्चित करना चाहिए।

Pranayama With Meditation-

पूज्य गुरु जी फरमाते हैं कि राम के नाम का जाप अगर प्राणायाम के साथ किया जाए तो यह सोने पर सुहागा के समान है। प्राणायाम के साथ mediation करने के बहुत फायदे हैं। पूज्य गुरु जी ने इसको करने का तरीका बताया है, जो इस प्रकार है -

1. सबसे पहले सुखा आसन में बैठ जाए।

2. स्वास को अंदर की तरफ ले और 15 से 20 सैकंड तक अंदर रोक ले व meditation करते रहे।

3. फिर स्वास को बाहर की तरफ छोड़े और 15 से 20 सैकंड तक बिना स्वास के रहे।

4. इस प्रक्रिया को प्रतिदिन 15–20 तक अवश्य करें। इसे करने के बहुत फायदे हैं। जैसे

- प्रणायाम के साथ गुरुमंत्र का जाप करने से ईश्वर की भक्ति में ध्यान ज्यादा लगता हैं।

- ध्यान के साथ प्रणायाम करने इंसान अपने गुस्से पर काबू पा सकता हैं। आपका बात-बात पर खीझना खत्म होता हैं।

- इन्सान के अंदर आत्मबल बढ़ता है, जिस से आप हर अच्छे क्षेत्र में तरक्की कर सकते हैं।

- लगातार अभ्यास आपके अंदर बीमारियों से लड़ने की क्षमता यानी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है।

Best time to Do meditation-

राम के लिए नाम का जाप इंसान किसी भी समय कर सकता है। लेकिन पूज्य गुरु संत डॉक्टर गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां ने ब्रहमूरत के समय यानी सुबह 2 से 5 के समय को सबसे सर्वश्रेष्ठ बताया गया है। जिसे आज विज्ञान भी मान चुकी है। क्योकि इस समय हवा में अॉक्सीजन की मात्रा अधिक होती है और वातावरण शुद्ध व शांत होता है। इस समय में प्रभु की भक्ति में ध्यान जल्दी लगता है व ईश्वर के दर्शनो के काबिल बना जा सकता है।

डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख संत डॉक्टर गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां ने राम-नाम का ऐसा तरीका बताया जिसका अभ्यास लोग चलते, फिरते, बैठकर या काम धंधा करते समय किसी भी तरह कर सकते हैं। इन तरीकों को करोड़ो डेरा अनुयायीयो ने अपनी दिनचर्या में शामिल किया और आज खुशहाल जीवन जी रहे हैं।

गुरुमंत्र की प्राप्ति-

आपको बता दें गुरुमंत्र कोई आम इंसान नहीं दे सकता। गुरुमंत्र का अर्थ जिसे खुद गुरु स्वयं अभ्यास करें और उसे भगवान की प्राप्ति हो गई हो उसी को ध्यान की विधि कहते हैं और उसी गुरुमंत्र वह गुरु अपने शिष्यो को देता है। जो इंसान को गम, चिंता, परेशानियों से मुक्त कराता है। सच्चा संत वही है जो बिना किसी दान चढ़ावे के भगवान की प्राप्ति के लिए नामदान दे।

Benefits Of Meditation-

पूज्य गुरु संत डॉक्टर गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां से नाम की अनमोल दात प्राप्त कर करोड़ो लोगों को राम-नाम के निरंतर अभ्यास से बहुत लाभ हुआ है जिनमे से कुछ फायदे हम आपके साथ सांझा करना चाहते हैं।

1. करोड़ो लोग जी रहे तनावमुक्त जीवन-

आज के भयानक समय में करोड़ो लोग पूज्य गुरु संत डॉक्टर गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां से नाम की अनमोल दात प्राप्त कर राम नाम का निरंतर अभ्यास करते हैं और आज तनावमुक्त जीवन जी रहे हैं।

2. स्मरण शक्ति बढ़ाने का टॉनिक-

जब आप गुरुमंत्र का निरंतर जाप करते हैं, तो पूज्य गुरु जी फरमाते हैं कि आपके सोचने, समझने की शक्ति कई गुणा बढ़ जाती है। क्योंकि गुरुमंत्र के लगातार जाप से आत्मबल चरम सीमा पर पहुंच जाता है। आत्मबल जब बढ़ जाता है तो इंसान हारी हुई बाजी भी जीत जाता हैं।

3. हर सवाल का जवाब मिल जाता है-

जब भी इंसान किसी तकलीफ़ में होता हैं, उस समय उस इंसान का दिमाग बिल्कुल भी काम नही करता। ऐसे में पूज्य गुरु जी फरमाते हैं कि अगर इंसान राम के नाम का जाप करे, तो इससे हमारा आत्मबल बढ़ता है व मन शांत रहता हैं। यदि पहले दिमाग 5% काम कर रहा था, तो मैडिटेशन करने के बाद वह 15% काम करता हैं और इन्सान को उसकी समस्याओं का हल आसानी से मिल जाता हैं।

4. लाइलाज बीमारियों पर जीत हासिल करने का मूल मंत्र-

पूज्य गुरु जी फरमाते हैं कि राम-नाम के नियमित अभ्यास से इच्छाशक्ति बढ़ती है जिसके द्वारा इंसान अपनी लाइलाज बीमारियों पर भी जीत हासिल कर लेता है। लाखों लोगों ने राम-नाम के तरीके को अपनाया और चौथे स्टेज के कैंसर व अन्य बीमारियों को मात देकर हरा दिया। ऐसा केवल राम के नाम से संभव हुआ क्योंकि राम के नाम से इंसान का आत्मबल बढ़ता है व आत्मबल बढ़ने से जो दवाई पहले 10% काम करती थी वह 100% काम करने लगती है।

5. बुरे विचारों को रोकने का रामबाण उपाय-

पूज्य गुरु जी फरमाते हैं कि आज के समय मे लोग नेगेटिव ज्यादा सोचते है और पॉजिटिव बहुत कम। अगर आप गुरुमंत्र का नियमित जाप करते है, तो इससे आपकी इच्छा शक्ति बढ़ने लगती है, आपका माइंड पॉजिटिव होने लगता हैं। यह तरीका बहुत से लोगों ने अपनाया और जिस से उनके बुरे विचारों का खात्मा हुआ और उनके अंदर सकारात्मक विचारो उत्पन्न होने लगे।

6. मेडिटेशन से पढ़ाई में रूचि-

पूज्य गुरु जी फरमाते हैं कि पढ़ने से 5 मिनट पहले सिमरन करना चाहिए और फिर पानी पीकर थोड़ा घूमने पर पढ़ने के लिए बैठ जाना चाहिए, इससे पढ़ाई में मन लगने लगेगा और पढ़ा हुआ दिमाग में एक image की तरह फिट हो जाएगा। इससे विद्यार्थी का आत्मबल बढ़ता है और वह जीवन में सफलता हासिल करता है।

5. Glowing Skin-

इसके साथ ही गुरुमंत्र के नियमित जाप से इंसान के चेहरे पर एक तेज आ जाता हैं। तेज से मतलब है इंसान के चेहरे पर अलग तरह की चमक का आना,(नूर आना) वह चमक जो अंदर से चिंता मुक्त होने पर, अंदर से खुशी मिलने पर चेहरे पर आती है।

6. अभाग्यशाली से भाग्यशाली-

पूज्य गुरु संत डॉक्टर गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां फरमाते हैं कि हमें इंसान जीवन 84 लाख योनीया भोगने के बाद मिलता है, जो सर्वश्रेष्ठ है। इस जन्म में अगर इंसान मेहनत करे व ईश्वर की भक्ति इबादत करे तो वह अपने कर्म बदल सकता है और अभाग्यशाली से भाग्यशाली बन जाता है।

Millions are practising meditation daily and living a blissful life-

डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख संत डॉक्टर गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां ने करोड़ो लोगों को राम-नाम से जोड़ा और भक्ति करने का सच्चा व सरल उपाय बताया जिसको करोड़ो लोगों ने अपने जीवन में अपनाया और आज खुशहाल जीवन जी रहे हैं।

पूज्य गुरु जी फरमाते हैं कि मालिक का नाम सुखों की खान है। मालिक का नाम लेने से इंसान जीते जी गम, दुःख, चिंताओं से मुक्ति पा सकता है और मरणोपरांत आवागम से मोक्ष मुक्ति पा सकता है। जो मालिक को दिल से याद करते हैं, वो शांत रहते हैं, उन्हें क्रोध नहीं आता है, बात-बात पर झगड़ा नहीं करते। उनमें खुदगर्जी नहीं होती। वे सबके भले के लिए कार्य करते हैं। पूज्य गुरु संत डॉक्टर गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां ने करोड़ो लोगों को राम-नाम से जोड़कर उनकी तमाम बुराईयो को छुड़वाया व आज वे अपने जीवन को खुशहाल से जी रहे हैं। बहुत से लोगों ने राम नाम के जाप से अपनी लाइलाज बीमारियों को ठीक किया है।

Conclusion-

सभी को अपनी दिनचर्या में से 15–20 मिनट निकालकर प्रभु की भक्ती इबादत जरूर करनी चाहिए। क्योंकि मालिक का नाम सुखों की खान और हर समस्या का रामबाण हल है।

Get the Medium app

A button that says 'Download on the App Store', and if clicked it will lead you to the iOS App store
A button that says 'Get it on, Google Play', and if clicked it will lead you to the Google Play store