कैंसर की सम्पूर्ण जानकारी, जागरुकता में है असली समझदारी

Image for post
Image for post

आज की इस भागदौड़ भरी जिंदगी में हम सब इतना उलझ गए हैं कि खुद को वक़्त देना तो दूर, खुद के बारे में सोचने की भी फुर्सत नहीं मिलती और इस अनदेखी के कारण हम अनजाने में अपनी सेहत के साथ खिलवाड़ कर बैठते हैं। जो आजकल की भयानक बीमारियों में से एक का कारण बन जाता है।

इन्हीं जानलेवा बीमारियों में से एक है कैंर, जिसका नाम लेते ही लोगों में एक अजीब से डर की लहर दौड़ जाती है। कैंसर (Cancer) एक ऐसी जानलेवा बीमारी है, जो जल्दी से इंसान का पीछा नहीं छोड़ती। इसलिए इस बीमारी से बचने के लिए हम आज यहां आपके साथ इस बीमारी के कारणों और इस से बचाव के उपायों को सांझा करेंगे।

कैंसर असल में क्या है?

Cancer अर्थात कर्क रोग जो आज एक सामान्य बीमारी की तरह माना जाता है। लेकिन ये बीमारी जितनी सामान्य लगती है उतनी ही खतरनाक भी है। कैंसर असल में हमारे शरीर की कोशिकाओं के अचानक और तेज़ी से बढ़ने और उनके दूसरे अंगों तक फैलने के कारण होता है। ऐसी अवस्था में ये कोशिकाएं आपके अंगों व दूसरी कोशिकाओं का विनाश करने की क्षमता रखती हैं। ये कोशिकाएं असमान्य रूप से शरीर के किसी भी अंग में बढ़ने लगती हैं।

कैसे पहचाने कैंसर को?

कैंसर की बीमारी को इसके शुरुआती स्टेज पर ही उचित चेक-अप व सिटी-स्केन के माध्यम से पहचाना जा सकता है। इसके अलावा कैंसर की पहचान आप निम्नलिखित लक्षणों द्वारा भी कर सकते हैं।

- शरीर के किसी घाव या नासूर का जल्दी से न भरना।

- शरीर में कहीं भी कोई दर्दरहित या पुरानी गांठ होना।

- उल्टी, मल अथवा मूत्र में खून आना।

- अचानक से वज़न का घटना।

- स्त्रियों में स्तन में गांठ के होना या मवाद निकलना।

कैंसर के मुख्य कारण क्या है?

कैंसर रोग एक ऐसा रोग है जो आपकी दिनचर्या में अपनाई गई बुरी आदतों से आपको हो सकता है। जैसे- धूम्रपान करने से गले, फेफड़ों व पेट का कैंसर होता है। जर्दा, तंबाकू व पान मसाला आदि से मुँह, जीभ, गाल का कैंसर हो सकता है। इसी तरह शराब का सेवन करने से खाने की नली या सांस की नली का कैंसर हो सकता है। खाने में अत्यधिक तैलीय पदार्थों या pesticide युक्त भोजन करने से भी आपको पेट का कैंसर हो सकता है। इसके साथ ही Non-vegetarian food भी आंतो के कैंसर का एक मुख्य कारण है।

किस तरह से करें कैंसर से बचाव?

कैंसर है तो एक जानलेवा बीमारी लेकिन यदि एक व्यक्ति अपनी दिनचर्या को सही ढंग से जिए व कुछ जीवनदायक उपाय अपनाए तो वो अपने आपको इस बीमारी से बचा सकता है। डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख संत डॉक्टर गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां अपने करोड़ो अनुयायीयों को समय-समय पर स्वास्थ्य संबंधित Health Tips देते रहते हैं। आइए जाने ये उपाय कुछ इस प्रकार हैं:-

खान-पान

पूज्य गुरु संत डॉक्टर गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां फरमाते हैं कि स्वस्थ और निरोगी काया के लिए हमारा खान-पान स्वस्थ होना चाहिए। हमें अपनी दिनचर्या में संतुलित आहार का सेवन करना चाहिए। हमें डिब्बाबंद चीजों व तैलीय भोजन जैसे Junk Food का सेवन नहीं करना चाहिए।

Avoid Non-vegetarian Food

Image for post
Image for post

पूज्य गुरुजी बताते हैं कि हमें Non-veg की जगह Vegetarian Diet को अपनी दिनचर्या में शामिल करना चाहिए। क्योंकि हमारा शरीर शाकाहारी भोजन के लिए बना है। अगर हम मांसाहार का सेवन करते हैं, तो वह लंबे समय तक Digest नहीं होता और वह हमारी आंतड़ियों में पड़ा रहता है। इससे बड़ी और छोटी आंत, आग्राशय व गुर्दे के कैंसर होने का खतरा बना रहता है। जबकि दूसरी ओर शाकाहारीयो में इसकी संभावना बहुत कम रहती है।

Organic Food

पूज्य गुरु जी शुरू से ही ऑर्गेनिक फूड को प्राथमिकता देते आए हैं। वह कहते हैं कि जहां तक हो सके हमें बिना pesticides वाले Organic food को अपनी दिनचर्या में शामिल करना चाहिए। जिससे हम कैंसर व अन्य बीमारियों से बच सकते हैं।

धूम्रपान व शराब का सेवन ना करें

Image for post
Image for post

धूम्रपान व शराब का सेवन करना हमारे शरीर के लिए हानिकारक है। धूम्रपान व शराब का सेवन करने वाले लोगों को जानलेवा बीमारियां होने का खतरा बना रहता है। जैसे- मुंह का कैंसर, गले का कैंसर, ग्रासनली का कैंसर पेट का कैंसर, श्वासनली का कैंसर, गुर्दे का कैंसर, रक्त कैंसर व स्तन का कैंसर आदि। पूज्य गुरु जी पावन प्रेरणा से आज डेरा सच्चा सौदा के करोड़ो अनुयायी धुम्रपान ना करने व तमाम नशो को छोड़ने का प्रण ले चुके हैं। इन

अनुयायीयो द्वारा समय-समय पर जागरुकता रेलियों का आयोजन भी किया जाता है।

Exercise और Yoga

Image for post
Image for post

पूज्य गुरु जी फरमाते हैं कि स्वस्थ रहने के लिए हमें अपनी दिनचर्या में एक्सरसाइज और योगा को शामिल करना चाहिए। जिसके द्वारा हम कैंसर व अन्य बीमारियों से बच सकते हैं।

हर 3–6 महीने में जांच करानी आवश्यक

पूज्य गुरु जी फरमाते हैं कि कैंसर का अगर शुरुआती दौर में पता लगे तो उसका इलाज संभव है, और जल्दी से उसे ठीक किया जा सकता है। इसलिए हर व्यक्ति को प्रत्येक 3 से 6 महीने के बीच में चेकअप अवश्य कराना चाहिए।

Meditation

पूज्य गुरु जी फरमाते हैं कि लगातार ईश्वर की भक्ति यानी करने से इच्छाशक्ति और सकारात्मकता बढ़ती है। जो कैंसर जैसी घातक बीमारियों को हराने में मदद करती है।

Meditation कैसे हैं- कैंसर के इलाज़ में सहायक?

Image for post
Image for post

Meditation कैंसर जैसी बीमारी के लिए एक रामबाण उपाय है। क्योंकि meditation सीधा आपके दिमाग और आपकी सोच पर असर करता है। इसे अपनी दिनचर्या में शामिल करने से और केवल 15 मिनट भी सुबह-शाम meditation करने से रोगी अपने अंदर की will power को strong कर सकता है। जिससे उसे कैंसर जैसे रोग से लड़ने का आत्मविश्वास मिलता है। उसे यह यकीन हो जाता है कि वो इस बीमारी को हरा सकता है। जैसे-जैसे आप meditation का अभ्यास करते जाते हैं। आपका mind positive होता जाता है, व इस से आपके शरीर पर दवाइयों का अच्छा और बेहतर असर होने लगता है।

लाखों लोगों ने Method of Meditation अपना, दी 3rd Stage Cancer को मात

आपको शायद यह पढ़कर हैरानी हो रही होगी, लेकिन यह वास्तव में सच है। ईश्वर के नाम का निरंतर अभ्यास करने से इन्सान का आत्मबल बढ़ता हैं व इच्छा शक्ति और सकारात्मकता का स्तर इतना बढ़ जाता है कि इंसान तीसरे और चौथी स्टेज के कैंसर को भी मात दे देता है। पूज्य गुरु जी द्वारा दिए गए गुरुमंत्र का निरंतर अभ्यास करने से लाखों लोगों ने अपनी लाइलाज कैंसर जैसी बीमारियों को हरा दिया है।इसके साथ ही समाज में और लोगों के लिए भी वे सकारात्मकता के एक उदहारण भी बने हैं। पूज्य गुरु संत डॉ गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां यह भी फरमाते हैं कि जिसको कोई भी बीमारी हो वह दवाई लेने से पहले कुछ समय के लिए meditation अवश्य करे। जिसकी मदद से भयानक से भयानक बीमारी को ठीक किया जा सकता है।

एक ऐसी संस्था, जिसके द्वारा उठाए गए उल्लेखनीय कदम

Image for post
Image for post

डेरा सच्चा सौदा एक ऐसी संस्था है, जो परहित परमार्थ के लिए काम करती है। इस संस्था के प्रमुख संत डॉक्टर गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां जो अपने करोड़ों अनुयायियों को रूहानियत के शिक्षा के साथ-साथ दुनियावी शिक्षा भी देते हैं। वह समय-समय पर अपने करोड़ों अनुयायियों को स्वास्थ्य संबंधी टिप्स देते रहते हैं।

किसानों को Organic Farming के लिए किया प्रोत्साहित

यह संस्था अपने कार्यो के लिए विश्व भर में प्रसिद्ध है। इसके प्रमुख संत डॉक्टर गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां ने किसानों को खेतों बाड़ी की नई तकनीक बताई है। इसके लिए डेरा सच्चा सौदा में प्रत्येक वर्ष पूज्य गुरु जी की रहनुमाई में किसान मेले का आयोजन किया जाता है। इस मेले में देश के कोने-कोने से आए लोग हिस्सा लेते हैं और बहुत सी जानकारी प्राप्त करते हैं। इस मेले में लोगों को organic farming के महत्व के बारे में बताया जाता है। क्योंकि आज कल खेतों में ज्यादा खाद व स्प्रे का इस्तेमाल किया जा रहा है जो कैंसररोधी जैसी जानलेवा बीमारी होने का कारण बन रहा है। इसके लिए डेरा सच्चा सौदा द्वारा organic farming को बढ़ावा दिया जाता है।

Cancer Awareness Camp

हमारे भारत देश में हर 4 मिनट में एक महिला को स्तन कैंसर होने का पता चलता है और हर 13 मिनट में एक मृत्यु हो जाती हैं। इसके लिए डेरा सच्चा सौदा द्वारा लोगों को जागरूक करने के लिए समय-समय पर cancer awareness camp का आयोजन शाह सतनाम जी स्पेशेलिटी हॉस्पीटल, सिरसा में किया जाता है। जिसमें लोगों को कैंसर से जुड़ी जानकारी दी जाती है। इसमें लोगों को जागरूक किया जाता है कि हर व्यक्ति को 3 से 6 महीने के बीच में अपनी जांच अवश्य करानी चाहिए। जिस से कैंसर के शुरुआती दौर का पता लगाया जा सकता हैं और जल्द से जल्द इलाज किया जा सकता है।

Million’s Shun The Non-veg

पूज्य गुरु संत डॉक्टर गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां के एक आहवान से आज 6 करोड़ डेरा अनुयाई मांसाहार को छोड़कर शाकाहार को अपनाने का प्रण ले चुके हैं और स्वस्थ जीवन जी रहे हैं। क्योंकि माँसाहारी भोजन मानव शरीर के लिए बेहद हानिकारक होता है। मांस का सेवन करने वाले लोग में कैंसर होने की सम्भावना अधिक पाई जाती है। इसलिए हमें माँसाहार को छोड़कर शाकाहार को अपनी दिनचर्या में शामिल करना चाहिए।

इसका सारा श्रेय

इन शिक्षाओ का सारा श्रेय डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख संत डॉक्टर गुरमीत राम रहीम सिंह की इन्सां को जाता है। जो अपने करोड़ो अनुयायीयों को रूहानियत की शिक्षा के साथ साथ दुनियावी शिक्षा भी देते हैं। धन्य है ऐसे महान गुरु जिनका हर कदम मानवता भलाई के कार्यो को समर्पित है।

Cancer Awareness Day Theme 2020

इस वर्ष National Cancer Awareness Day 2020 की थीम I Am and I Will है। इसके अनुसार आप ध्यान और मेडिटेशन के टॉनिक का सहारा ले। जिसे करोड़ो लोगों ने अपनाया है। जो सफलतापूर्वक कैंसर जैसी घातक बीमारियों को हराने के लिए उनकी इच्छाशक्ति को बढ़ाता है।

Conclusion

दोस्तों कैंसर जैसी बीमारी के जहां आज दुनिया में काफी इलाज़ उपलब्ध हैं, वहीं कुछ ऐसे तरीके भी हैं जिन्हें अपनाकर हम अपनी दिनचर्या में ऐसी भयानक बीमारियों से बच सकते हैं। बस जरूरत है तो awareness की और ये जानने की, कि क्या हमारे lifestyle के लिए सही है और क्या गलत है। उम्मीद है कि आपको इस विषय पर हमारी दी गई जानकारी अच्छी लगी होगी।

Get the Medium app

A button that says 'Download on the App Store', and if clicked it will lead you to the iOS App store
A button that says 'Get it on, Google Play', and if clicked it will lead you to the Google Play store